लॉक डाउन का फायदा उठाकर विक्रोली विधानसभा क्षेत्र मे सरकारी जमीन पर बड़े पैमाने मे कब्जा, सैकड़ों झोंपड़पट्टियों का निर्माण, बीएमसी और पुलिस लाचार

कोरोना के कारण आया हुआ लॉक डाउन का समय आम जनता के लिए बहुत तकलीफ भरा रहा है। सबकी रोजी-रोटी प्रभावित हुई है और पैसे की तंगी का सामना करना पड़ रहा है । लेकिन ऐसे समय मे भी यदि किसी ने पैसा बनाया है तो वो है हमारे राजनेता और उनके चापलूस कार्यकर्ता । मैनें अपने पिछले लेखों मे आपको शिवसेना नेता दशरथ घाड़ी और पठान गैंग द्वारा पवई और आरे मे किए जा रहे गैरकानूनी निर्माण कार्यों के बारे मे बताया था । यदि आपने वो लेख न पढे हो तो यह रहे लिंक :

भू माफिया शिवसेना नेता द्वारा आरे की जमीन पर गैरकानूनी कब्जा, आरे बचाओ के नाम पर एक और धोखा

पठान गैंग की सहायता से शिवसेना नेता ने किया पवई के फूटपाथ पर कब्जा, पुलिस और महानगरपालिका कार्रवाई करने मे असमर्थ

भूमाफिया शिवसेना नेता द्वारा चाँदीवाली मे गैरकानूनी झोंपड़ों का निर्माण, बीएमसी और पुलिस कार्रवाई करने मे लाचार

इस लेख मे मैं आपको बताता हूँ कि विक्रोली विधानसभा मे भी कई दशरथ घाड़ी है जिन्होनें लॉक डाउन का फायदा उठाकर बड़े पैमाने मे सरकारी जमीन पर कब्जा किया है | 

1)  श्याम नगर, हेमा पार्क के सामने, भांडुप पूर्व, मुंबई : इस जगह पर लगभग 250 गैरकानूनी झोंपड़ों का निर्माण हुआ है:

shyam-nagar

 

2) साल्ट लैंड, टाटा नगर, ईस्टर्न एक्स्प्रेस हाइवै के पास, भांडुप पूर्व : यहाँ 40-50 झोंपड़ों का निर्माण हुआ है । यहाँ गैरकाननूनी निर्माण अभी भी जोरों-शोरों से चल रहा है ।

salt-land

 

3) भवानी नगर, भांडुप पूर्व : यहाँ 6 गैरकानूनी झोंपड़ों का निर्माण किया गया है । 

bhavani-nagar-1

 

4) आरकेड अर्थ प्रोजेक्ट, कांजूर मार्ग पूर्व मे एक गैरकानूनी दुकान का निर्माण किया गया है :

shop-infront-of-arkade-earth

 

5) DAV कॉलेज के सामने भांडुप पूर्व मे रवि म्हात्रे ने एक गैरकानूनी होटल बनाया है । 

hotel-in-front-of-dav-college

 

6) टाटा टावर के नीचे, अन्नपूर्णा निवास, संजय अपार्टमेंट के सामने, भांडुप गाँव :

below-tata-tower

इन गैरकानूनी निर्माण कार्यों मे जिनका हाथ है वो हैं : सज्जू मलिक, रूपेश शेट्टी, सतीश विटकर, सचिन भोईर उर्फ पप्पू, आनंद गवई, रितेश केनी, राकेश मलकर, पांडुरंग उलवेकर। इनमें से ज्यादातर या तो कुख्यात अपराधी है या राजनैतिक कार्यकर्ता या फिर दोनों । इसमें से सज्जू मलिक तो अभी कुछ दिनों पहले जेल से छूटकर आया है । इन भूमाफियाओं ने झोंपड़े बनाकर एक-एक झोंपड़ा 8 से 10 लाख मे बेच दिया है । आप सिर्फ हिसाब लगाइए कि 8 लाख के हिसाब से भी 300 झोंपड़ों का पैसा कितना होता है – लगभग 25 करोड़ रुपये । इस 25 करोड़ मे से बीएमसी को कितना गया होगा, कांजूर मार्ग पुलिस स्टेशन को कितना गया होगा और इनके साहब को कितना गया होगा किसको पता ! तभी तो सब आँख बंद करके बैठे हैं । लेकिन एक बात तो तय है कि आप और मैं पढ-लिखकर, जिंदगी भर मेहनत कर जितना पैसा देख भी न पायें, उससे ज्यादा इन अपराधियों और पिद्दी कार्यकर्ताओं ने लॉक डाउन के 6 महीने मे कमा लिए । 

यह तो 6 जगह की ही फोटो और जानकारी मैनें दी है, ऐसे दर्जनों जगह की तस्वीरें और हैं । पर वो फिर कभी । आज के लिए इतना ही । भ्रष्टाचार के मामलों की जानकारी के लिए आप ईभारत पढ़ते रहिए ।

कुख्यात अपराधी सज्जू मलिक अपने साहब शिवसेना विधायक सुनील राऊत के साथ
कुख्यात अपराधी सज्जू मलिक अपने साहब शिवसेना विधायक सुनील राऊत के साथ

भूमाफिया शिवसेना नेता द्वारा चाँदीवाली मे गैरकानूनी झोंपड़ों का निर्माण, बीएमसी और पुलिस कार्रवाई करने मे लाचार

जामराज मोमिन खान उर्फ मुक्का भाई शिवसेना नेता दशरथ घाड़ी के साथ
जामराज मोमिन खान उर्फ मुक्का भाई शिवसेना नेता दशरथ घाड़ी के साथ

मेरे पिछले लेखों मे मैनें आपको शिवसेना के महाराष्ट्र राज्य माथाड़ी आणि जनरल कामगार सेना के संयुक्त सचिव दशरथ घाड़ी द्वारा किए जा रहे गैरकानूनी कामों के बारे मे बताया था। यदि आपने वो लेख न पढे हो तो लिंक यह रहे :

आरे बचाओ के नाम पर मुंबई वासियों के साथ धोखा, शिवसेना नेता ने बनाया आरे को डम्पिंग ग्राउंड

भू माफिया शिवसेना नेता द्वारा आरे की जमीन पर गैरकानूनी कब्जा, आरे बचाओ के नाम पर एक और धोखा

पठान गैंग की सहायता से शिवसेना नेता ने किया पवई के फूटपाथ पर कब्जा, पुलिस और महानगरपालिका कार्रवाई करने मे असमर्थ

इन लेखों को पढ़कर आप समझ सकते हैं कि दुर्दांत, वांटेड और तड़ीपार अपराधियों सेल्वाकुमार, कन्नन चिन्ना दुराई और पठान गैंग के जामराज मोमिन खान उर्फ मुक्का भाई को साथ मिलाकर दशरथ घाड़ी ने आरे और उसके आसपास के इलाकों को अपने गैरकानूनी काम का अड्डा बना रखा है। इसमे सेल्वाकुमार और कन्नन चिन्ना दुराई आरे के अंदर गैरकानूनी डम्पिंग और जमीन हड़पने का काम देखते हैं और जामराज मोमिन खान आरे के बाहर यही सारे काम करता है ।

अभी कुछ दिनों पहले (लॉकडाउन के दरम्यान) जामराज मोमिन खान ने चाँदीवली मे की गैरकानूनी झोंपड़ों का निर्माण किया है । पूरा पता है : Land situated next to IRB Complex, Chandivli farm, Opposite Gulati Temple, Near Lake Homes, Chandivli Village, Andheri East, Mumbai- 72

सोचिए जिस लॉकडाउन में आप और मैं घर से बाहर नहीं निकल पाते थे, हमारी रोजी रोटी बंद थी, उसी लॉकडाउन में दशरथ घाड़ी और जामराज मोमिन खान ने गैरकानूनी झोंपड़ों का निर्माण कर लाखों रुपये कमा लिए । बीएमसी और मुंबई पुलिस की जितनी तारीफ की जाए उतनी कम है । ऐसा पवित्र काम दशरथ घाड़ी और जामराज मोमिन खान उनकी सहायता के बिना तो नहीं कर पाते । यह रही उन अवैध झोंपड़ों की तस्वीरें :

dashrath-ghadi

dashrath-ghadi-2

dashrath-ghadi-3
इस जमीन पर कब्जा करने की यह पहली घटना नहीं है । इससे पहले भी पठान गैंग के दूसरे सदस्यों रजिया शेख, मुनिया शेख और असलम शेख ने इस जमीन पर कई गैरकानूनी झोंपड़ों का निर्माण किया है । ये तीनों जामराज मोमिन खान के रिश्तेदार है और दशरथ घाड़ी को अपने हर काले कारनामे का हिस्सा देते रहते हैं । इस मामले की शिकायत बीएमसी L वार्ड तथा पवई पुलिस स्टेशन मे अगस्त 2019 मे की गई थी । लेकिन बीएमसी और पुलिस इसे पवित्र कार्य समझती है इसलिए अपने-अपने हिस्से का प्रसाद लेकर चुप बैठ गई । असलम शेख की पवई पुलिस के कई कर्मचारियों से बड़ी अच्छी दोस्ती है । उनसे नियमित मिलते रहते हैं और फोटो खिंचवाते रहते हैं । शोले के जय और वीरू की दोस्ती के बाद पवई के पठान गैंग के सदस्यों और पवई पुलिस स्टेशन के कर्मचारियों की दोस्ती को ही आदर्श दोस्ती मानी जाती है । असलम शेख की अपने दोस्तों के साथ कुछ तस्वीरें पेश हैं :

aslam-sheikh-1
aslam-sheikh-2

आज के लिए इतना ही । जैसे-जैसे समय मिला, लेख लिखकर आपको भ्रष्टाचार के अन्य मामलों की जानकारी भी देता रहूँगा ।

रजिया शेख, मुनिया शेख और असलम शेख के विरुद्ध जमीन हड़पने की शिकायत
रजिया शेख, मुनिया शेख और असलम शेख के विरुद्ध जमीन हड़पने की शिकायत

पठान गैंग की सहायता से शिवसेना नेता ने किया पवई के फूटपाथ पर कब्जा, पुलिस और महानगरपालिका कार्रवाई करने मे असमर्थ

जामराज मोमिन खान उर्फ मुक्का भाई शिवसेना नेता दशरथ घाड़ी के साथ
जामराज मोमिन खान उर्फ मुक्का भाई शिवसेना नेता दशरथ घाड़ी के साथ

मेरे पिछले लेखों द्वारा मैनें आप लोगों को बताया था कि किस तरह शिवसेना नेता दशरथ घाड़ी ने आरे के जंगल को डम्पिंग ग्राउन्ड बनाकर और वहाँ गैरकानूनी निर्माण कार्य कर के करोड़ों रुपये के वारे-न्यारे किए हैं | दशरथ घाड़ी शिवसेना के महाराष्ट्र राज्य माथाड़ी आणि जनरल कामगार सेना का संयुक्त सचिव है | यदि आपने मेरे उन लेखों को न पढ़ा हो तो यह रहे लिंक :

आरे बचाओ के नाम पर मुंबई वासियों के साथ धोखा, शिवसेना नेता ने बनाया आरे को डम्पिंग ग्राउंड

भू माफिया शिवसेना नेता द्वारा आरे की जमीन पर गैरकानूनी कब्जा, आरे बचाओ के नाम पर एक और धोखा

इस लेख द्वारा मैं आपको बताऊँगा कि शिवसेना नेता दशरथ घाड़ी ने आरे के अंदर ही नहीं, उसके बाहर भी अपनी आपराधिक गतिविधियाँ जारी रखी है। इस विडिओ मे आपको फूटपाथ पर जो दर्जन भर झोंपड़े दिख रहे हैं , इसे बनाया है पठान गैंग के सदस्य जामराज मोमिन खान उर्फ मुक्का भाई ने इस जगह का पूरा पता है : Adjacent to L&T gate no 3, infront of Milind Nagar, Powai, Mumbai

ऊपर दिए गए विडिओ को ध्यान से देखिए | ब्रिज के नीचे से जीतने बने झोंपड़े दिख रहे है, सब जामराज मोमिन खान ने बनाया है। ऐसे सैकड़ों झोंपड़े उसने चाँदीवली, गौतम नगर, भीम नगर, फ़िल्टर पाड़ा और मोरारजी नगर मे भी बनाए है। यह झोंपड़े 15-20 लाख मे बिकते हैं । मेरे अन्य लेखों में मैं उन जगहों की फोटो और विडिओ भी पब्लिश करूँगा। विडिओ के अंत मे, जहाँ कैमरा फोकस किया गया था, वो जामराज मोमिन खान का अड्डा है। वही बैठकर वो शिवसेना नेता दशरथ घाड़ी के लिए पैसे की वसूली करता है। दशरथ घाड़ी के लिए कन्नन चिन्ना दुराई जो काम आरे के अंदर करता है, वही काम जामराज मोमिन खान आरे के बाहर के इलाकों मे करता है।

जामराज मोमिन खान पवई मे सक्रिय पठान गैंग का सदस्य है। इस गैंग की मुखिया उसकी बहन फरीदा है जो स्थानीय लोगों के बीच लेडी डॉन के नाम से जानी जाती है। इस गैंग के सदस्यों पर कितने मामले चल रहे हैं उसकी गिनती मुश्किल है। हफ्ता वसूली, ड्रग्स बेचना, जमीन पर गैरकानूनी कब्जा जैसे अनगिनत मामले हैं जिसमे यह गैंग शामिल है। अभी-अभी दो दिन पहले इस गैंग के दो सदस्यों को हत्या के जुर्म मे पुलिस ने गिरफ्तार किया है। इस गैंग का पवई और आस-पास के इलाकों मे इतना आतंक है कि इनका नाम सुनते ही पवई पुलिस अपने कान बंद कर लेती है। अब इन्हें शिवसेना नेता दशरथ घाड़ी का आशीर्वाद भी प्राप्त है। शिवसेना की सरकार भी है। इसलिए पठान गैंग की हिम्मत अब सातवे आसमान पर है। पवई पुलिस उन पर कोई कार्रवाई करने से पहले पचास बार सोचती है।

जामराज मोमिन खान उर्फ मुक्का भाई को शिवसेना ही नहीं काँग्रेस के नेताओं का भी समर्थन प्राप्त है। ऊपर दिए विडिओ को देखिए। इसमें जामराज मोमिन खान काँग्रेस नेता सुभाष शेरेकर के साथ हिजड़ों के नृत्य मे उन पर पैसा उड़ा रहे है। सुभाष शेरेकर अंधेरी तालुका, वार्ड क्र 121 के ब्लॉक अध्यक्ष है। उनकी भी पठान गैंग से अच्छी दोस्ती है और इन अनाधिकृत झोंपड़ों के निर्माण से उनको भी हिस्सा मिलता है।

ऐसा नहीं है कि पुलिस या महानगरपालिका बिल्कुल कार्रवाई नहीं करती। विडिओ मे दिखाए झोंपड़ों को शुरुवात मे 2 बार तोड़ा गया। उसके बाद पेपर पर पुलिस और महानगरपालिका की जिम्मेदारी खत्म हो गई। आपके और हमारे लिए बनाया फूटपाथ दशरथ घाड़ी और मुक्का भाई की सेवा मे समर्पित हो गया।

आज के लिए इतना ही | आगे के लेखों मे पठान गैंग के कारनामों को पूरे विवरण के साथ बताऊँगा।

पवई के पठान गैंग की मुखिया, लेडी डॉन फरीदा (बाईं तरफ)
पवई के पठान गैंग की मुखिया, लेडी डॉन फरीदा (बाईं तरफ)

भू माफिया शिवसेना नेता द्वारा आरे की जमीन पर गैरकानूनी कब्जा, आरे बचाओ के नाम पर एक और धोखा

शिवसेना नेता दशरथ घाड़ी (मध्य मे)
शिवसेना नेता दशरथ घाड़ी (मध्य मे)

महाराष्ट्र की शिवसेना – काँग्रेस – राष्ट्रवादी सरकार मुंबई वासियों के साथ पर्यावरण बचाने के नाम पर किस तरह धोखा कर रही है, इस बात को मैनें अपने पिछले दो लेखों द्वारा साबित कर दिया था | यदि आपने वो लेख न पढे हो तो यह रहा उनका लिंक :

  1. आरे बचाओ के नाम पर मुंबई वासियों के साथ धोखा, शिवसेना नेता ने बनाया आरे को डम्पिंग ग्राउंड
  2. कांजुर मार्ग मुंबई में कनाकिया बिल्डर की मनमानी, रातों रात काटे सैकड़ों पेड़

इस लेख में मैं इसी बात के और सबूत देते हुए बताने जा रहा हूँ कि शिवसेना सरकार का इरादा आरे बचाना नहीं आरे हड़पना है | प्रस्तुत दोनों विडिओ को ध्यान से देखिए :

आरे के यूनिट क्र 19 मे जंगलों के बीचोंबीच पेड़ काटकर झोंपड़ों का निर्माण किया जा रहा है | इन झोंपड़ों को चोरी की बिजली और पानी का कनेक्शन भी मिल जाता है | इसके बाद इन झोंपड़ों को 15-20 लाख मे बेच दिया जाता है | आपको आरे के जंगलों मे इस तरह के नए-नए सैकड़ों झोंपड़े दिख जाएँगे | भूमाफिया / भरणीमाफिया शिवसेना नेता दशरथ घाड़ी खूँखार अपराधी सेल्वाकुमार और कन्नन चिन्ना दुराई के साथ मिलकर जोरों शोरों से इन गैरकानूनी झोंपड़ों का निर्माण कर रहा है और हर महीने करोड़ों रुपये कमा रहा है | इसी पैसे की ताकत है कि इस गैरकानूनी निर्माण को न वहाँ कि पुलिस रोकती है न आरे के मुख्य कार्यकारी अधिकारी | ऐसे दर्जनों विडिओ और फोटो है मेरे पास |

ऐसा नहीं है कि मुख्य कार्यकारी अधिकारी कुछ भी नहीं करते | उनको यह तो दिखाना है ही कि वो अपना काम कर रहे है | तो कभी-कभी इन झोंपड़ों को तोड़ने की कार्रवाई होती है लेकिन उसको आधा अधूरा तोड़ जाता है | दशरथ घाड़ी उन झोंपड़ों का पुनर्निर्माण कर फिर उन्हें बेच देते है | उसके बाद फिर कोई कार्रवाई नहीं होती | मुख्य कार्यकारी अधिकारी ने पेपर पर दिखाने के लिए अपना काम भी कर लिया और जमीन बेचकर पैसे भी मिल गए | दोनों हाथ मे लड्डू | वैसे भी भूमाफिया / भरणीमाफिया शिवसेना नेता दशरथ घाड़ी पर कार्यवाही करने की हिम्मत कौन करे ? सत्ता शिवसेना की है |

कोई सोच सकता है कि इस गैरकानूनी निर्माण के समय पुलिस क्या कर रही है | मरोल पुलिस भी अपनी जिम्मेदारी अच्छे से निभा रही है | वो हर उस व्यक्ति को पुलिस स्टेशन बुला लेती है जो भूमाफिया / भरणीमाफिया शिवसेना नेता दशरथ घाड़ी के गैरकानूनी कार्यों  के खिलाफ आवाज उठाता है | पुलिस वहाँ होनेवाले गैरकानूनी डम्पिंग को , अवैध निर्माण को तो रोक नहीं पा रही है | न ही वो खूँखार अपराधी कन्नन को गिरफ्तार कर पा रही है | तो वो शिकायत करनेवाले का ही मुँह बंद करने मे भरोसा करती है |

आज के लिए इतना ही | ईभारत पढ़ते रहिए | मैं आगे भी आरे के जंगलों मे चलनेवाली इन गैरकानूनी गतिविधियों की जानकारी आपको देता रहूँगा  |