बिजली के बढे हुए बिल ने मुंबई में मचाया हाहाकार, लोगों को मिल रहे हैं पाँच से छः गुना बढे हुए बिल

mahavitaran

कोरोना और लॉक डाउन से ट्रस्ट जनता को अब एक और नई मुसीबत का सामना करना पड़ रहा है | लोगों को महाराष्ट्र राज्य विद्युत वितरण कंपनी की ओर से इस महीने बिजली के जो बिल मिलने शुरू हुए हैं, वो सामान्य से लगभग पाँच-छः गुना है | बिजली के बिल में अचानक हुई इस ५००% की वृद्धि से लोग हैरान-परेशान है | उनको समझ नहीं आ रहा है कि इस लॉक डाउन में जब रोजी-रोटी मिलनी मुश्किल हो गयी है, तो इस बढे हुए बिजली के बिल को कहाँ से भरे !

बढे हुए बिजली के बिल की समस्या सिर्फ मुंबई ही नहीं पूरे महाराष्ट्र में हो रही है | देश के अन्य राज्यों से भी इस तरह की खबर पढ़ने को मिल रही है | लेकिन अन्य राज्यों में राज्य सरकार ने जनता को राहत देने के लिए छोटे-बड़े कदम उठाये हैं | जैसे कि मध्य प्रदेश की शिवराज सरकार ने बिजली बिल में ५०% से ७५% की छूट दी है | महाराष्ट्र सरकार इस मामले में अब तक जनता की सहायता करने आगे नहीं आयी है |

शिवसेना और राष्ट्रवादी कांग्रेस के कुछ नेताओं ने बिजली बिल के मामले को उठाया जरूर है पर अब वो शांत बैठ गए हैं | शायद अपनी सरकार के विरुद्ध वो जाना नहीं चाहते | भाजपा के कुछ नेता भी इस मामले को उठा रहे हैं, लेकिन वो संघर्ष को कितना आगे ले जाएँगे पता नहीं | मीडिया भी इस मामले को तूल नहीं दे रही | अब ऐसे में जनता के पास इसके शिवाय कोई चारा नहीं बचता कि वो खुद इस मामले में उद्धव सरकार पर दबाव बनाना शुरू करे |

मैं स्वयं इस मामले को फेसबुक, ट्विटर और दूसरे सोशल मीडिया साइट के माध्यमों से उठानेवाला हूँ | मेरी पाठकों से प्रार्थना है कि इस मामले में शांत न बैठते हुए सोशल मीडिया में पोस्ट करे | सरकार से माँग करे कि इस बढे हुए बिजली के बिल को तुरंत माफ़ करे | अपने स्थानीय जनप्रतिनिधि , खासकर विधायक (MLA) को इस समस्या के बारे में बताये | विधायक राज्य सरकार के सीधे संपर्क में होते हैं, वो मुख्यमंत्री से मिलकर इस बारे में बात कर सकते हैं | यदि हमने बड़ी संख्या में मिलकर इस मामले को नहीं उठाया तो कई लोगों को लॉक डाउन का बाकी समय अँधेरे में गुजारना पड़ सकता है |