भ्रष्ट नौसेना, डाकयार्ड कॉलोनी कांजुर मार्ग के सिक्यूरिटी गार्डों को तनख्वाह देने में असमर्थ

vice-admiral-girish-luthra

डाकयार्ड कॉलोनी कांजुर मार्ग में दुबारा हंगामा होने के आसार दिख रहे हैं | जैसा कि पाठक गण जानते हैं कि कुछ महीनों पहले डाकयार्ड कॉलोनी के सिक्यूरिटी गार्डों ने समय पर वेतन न मिलने तथा अन्य कारणों से हड़ताल कर दिया था | उसके बाद काफी हंगामा बरपा | जाँच भी बैठी | हमारे कांजुर मार्ग डाकयार्ड कॉलोनी के एडमिरल सुपरिन्टेन्डेन्ट संजीव काले जी खुद आकर सिक्यूरिटी गार्डों से बात कर के गए | कोई कमांडर भी जाँच के लिए आये थे | उन्होंने भी सिक्यूरिटी गार्डों से पूछताछ की और काफी कुछ लिख कर लेकर गए | इन सबसे लगा चलो बेचारे सिक्यूरिटी गार्डों के अब अच्छे दिन आ जायेंगे | लेकिन अब पता चला कि हमने इन सफ़ेदपोश डाकुओं से कुछ ज्यादा ही उम्मीद लगा रखी थी |

बेचारे सिक्यूरिटी गार्डों की तनख्वाह उन्हें १० तारीख को मिलनी थी | वो तो समय पर नहीं मिला | मिलेगा भी कैसे ? जिस सिक्यूरिटी एजेंसी डायनामिक्स प्राइवेट लिमिटेड को कॉन्ट्रैक्ट दिया गया है, उसकी इतनी आर्थिक क्षमता ही नहीं है कि वो ४०-५० सिक्यूरिटी गार्डों को तनख्वाह दे पाए | बेचारे को कमांडर मुजावर और बिरेन्द्र ने जबरदस्ती यहाँ का काम दे दिया है | एक समय वो दोनों का ख़ास दोस्त था | अब वो दोनों की परछाई से भी दूर भागता है | उसे झूठा भरोसा दिलाया गया कि उसका बिल जल्दी से पास करा देंगे और उस पैसे से वो सिक्यूरिटी गार्डों को तनख्वाह दे देगा | पर बिल ऐसे कैसे पास हो जाएगा ? बिल में तो कितने घोटाले हैं | वो भी तब जब पूरा मामला काले जी की जानकारी में है |

डायनामिक्स प्राइवेट लिमिटेड से पहले जिस आलसिक्योर प्रोटेक्सन सर्विस को कॉन्ट्रैक्ट मिला था, उसका साथ महीने का ३४ लाख का बिल बाकी है | उस बिल में दस घोटाले हैं | न किसी सिक्यूरिटी गार्ड का प्रोविडेंट फण्ड नंबर न इन्सुरेंस नंबर | बिल ५१ सिक्यूरिटी गार्डों का बना कर भेजा गया है पर कॉलोनी में कभी भी ४१-४२ से ज्यादा सिक्यूरिटी गार्डों ने काम नहीं किया | कम से कम १० सिक्यूरिटी गार्डों का नकली बिल जमा कराया गया है | उनमें से कुछ सिक्यूरिटी गार्ड तो ऐसे हैं कि उन्होंने सालों से कॉलोनी में काम नहीं किया पर बिल में उनका नाम है | वो आलसिक्योर प्रोटेक्सन सर्विस और डाकयार्ड प्रशासन से इतने नाराज हैं कि उनके खिलाफ कहीं भी शिकायत करने को तैयार बैठे हैं |

डायनामिक्स प्राइवेट लिमिटेड वाले ने कहीं से इंतजाम कर सारे सिक्यूरिटी गार्डों को आठ दिन देरी से ४००० रुपये दिए हैं | बाकी पैसा एक सप्ताह में देगा, ऐसा बोला है | अब पता नहीं कैसे इंतजाम कर के देगा | उसका बिल पास होना तो मुश्किल है | उसके बिल में भी काफी घोटाले हैं | वो कभी बाद में बताउँगा |

आलसिक्योर का बिल पुराना है | जब तक उसका बिल पास नहीं होता, डायनामिक्स का कैसे पास होगा ? हो गया तो भी इस बार मेरे पास इतने ठोस सबूत और गवाह हैं कि मैं इस मामले को विजिलेंस में जरूर दूँगा और फिर कोर्ट में भी खीचूँगा | डायनामिक्स प्राइवेट लिमिटेड, आलसिक्योर प्रोटेक्सन सर्विस और जिन सिक्यूरिटी ऑफिसर का बिल पर हस्ताक्षर है, सबको तकलीफ होनी ही है | आज नहीं तो कल | तोरस्कर जी आप को कमांडर मुजावर बचाने नहीं आएगा | क्यों गलत बिल पर हस्ताक्षर किया आपने ?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *