नौसेना प्रशासन की लापरवाही से डाकयार्ड कॉलोनी, कांजुरमार्ग, मुंबई में एक और मजदूर की मौत

Construction site at Dockyard Colony kanjur Marg Mumbai where 2 labours died
Construction site at Dockyard Colony kanjur Marg Mumbai where 2 labours died

भारतीय नौसेना गरीब मजदूरों का आर्थिक शोषण करने के लिए कुख्यात तो थी ही अब वो उनकी मौत बनकर उनके सर पर नाचने का काम भी कर रही है | पिछले एक वर्ष में डाकयार्ड कॉलोनी कांजुर मार्ग मुंबई-78 में ही तीन मजदूरों की मौत हो चुकी है | अभी हाल ही में घटी एक घटना का उदाहरण देकर मैं पाठकों को पूरा मामला समझाता हूँ |

डाकयार्ड कॉलोनी, कांजुर मार्ग में कई इमारतों के निर्माण कार्य चल रहे हैं | इमारत क्र. 54 के सामने भी एक निर्माण कार्य चल रहा है | यह निर्माण कार्य तमाम तरह की गैरकानूनी गतिविधियों का अड्डा बन चुका है | यहाँ बाल मजदूरों का प्रयोग खुलेआम हो रहा है | गैरकानूनी आर एम सी प्लांट लगाया गया है | चौबीसों घंटे काम चलता है जबकि नियम के अनुसार सूर्यास्त के बाद काम बंद हो जाना चाहिए |

इन सारी गैरकानूनी गतिविधियों की जानकारी नौसेना तथा रक्षा विभाग को दी गयी थी | पर उन्होंने कोई कार्रवाई नहीं की | कमांडर मुजावर तथा सिक्योरिटी इंचार्ज अवस्थी को भी पूरा मामला बताया गया था | कमांडर मुजावर ने अपने उच्च अधिकारियों को मामले से अवगत कराया किंतु अवस्थी जी ने तो कोई भी कार्रवाई करने से साफ़ इंकार कर दिया |

नौसेना प्रशासन की इस लापरवाही का नतीजा दो दिन पहले शनिवार की रात ( ०२/०६/२०१८ ) को एक गरीब मजदूर पुष्पराज सुरेंद्र (उम्र २२ वर्ष) को भुगतना पड़ा | आप सब को पता है शनिवार की रात मुंबई में बारिश हुई थी | अब कम से कम बारिश के समय तो काम बंद करना चाहिए था | किंतु लालची ठेकेदार ने काम चालू रखा | अवस्थी जी का आशीर्वाद तो था ही | बारिश के गीलेपन की वजह से electrocution हुआ और उस बेचारे गरीब मजदूर की मौत हो गई | गाँव से रोजी-रोटी कमाने आया था, लाश बनकर वापस गया |

अब हंगामा मचा हुआ है | पुलिस को पैसा खिलाकर झूठा एक्सीडेंटल डेथ रिपोर्ट बनवाना, मजदूर के परिवार को झूठ बोलना, उन्हें उनके हक़ का पैसा न देने का तरीका खोजना इन सब कामों में ठेकेदार, सुरक्षा इंचार्ज अवस्थी जी और नौसेना के अधिकारी लगे हैं | अब वहाँ नौसेना ने रात को काम बंद कर रखा है | एक मजदूर की लाश गिरने के बाद | उसी जगह ५-६ महीने पहले डेमोलिशन के समय एक मजदूर की मौत हुई थी | वर्ष भर पहले न्यू कॉलोनी के पास बने टावर से गिरकर एक मजदूर की मौत हुई थी | तीन मौतों की जानकारी तो मुझे है | हो सकता है और भी मौतें हुई हो और मुझे पता न चला हो | मैं दावे के साथ कह सकता हूँ कि जिन मजदूरों की मौत हुई थी न उन्हें उनके हक़ का पैसा मिला है और न शनिवार की रात को मरे गरीब मजदूर पुष्पराज सुरेंद्र को मिलेगा | नियमों के तहत इन्सुरन्स तथा पी ऍफ़ अकाउंट भी नहीं बना होगा उनका | न्यूनतम मजदूरी भी नहीं मिलती होगी | नौसेना की सफ़ेद वर्दी गरीब मजदूर को अपने जूतों तले रौंद रही है |

आमचोर अवस्थी गैरकानूनी तरीके से रखे हुए दो बंदूकों के साथ
आमचोर अवस्थी गैरकानूनी तरीके से रखे हुए दो बंदूकों के साथ
इन सब हंगामों के बीच हमारे सिक्योरिटी इंचार्ज अवस्थी जी क्या कर रहे हैं ? कॉलोनी की सुरक्षा का जिम्मा तो उनके सर है न ! लेकिन वो बेचारे व्यस्त है | बहुत ज्यादा व्यस्त | निम्नलिखित कामों के कारण उन्हें फुर्सत ही नहीं है |
१) कॉलोनी के पेड़ों पर लगे आमों और नारियलों को सिक्योरिटी गार्डों से तुड़वाकर बेचना और उसका पैसा अपनी जेब में डालना | इसलिए अब से अवस्थी जी का नाम आमचोर अवस्थी लिखा जाएगा |
२) नौसेना के अधिकारियों को रिश्वत दिलवाकर फर्जी बिल पास कराना |
३) PCDA के ऑडिटरों को रिश्वत दिलवाकर फर्जी बिल पास करवाना | उदाहरण के तौर पर डायनामिक सिक्योरिटी वाले से 3% PCDA के ऑडिटरों को दिलवाते हैं |
४) सिक्योरिटी गार्डों की नकली अटेंडेंस लगाकर पैसा कमाना |
५) डाकयार्ड कॉलोनी के स्विमिंग पूल में गैरकानूनी तरीके से चल रहे अकादमी के लिए ग्राहक जुटाकर पैसे कमाना |
६) कॉलोनी के खेल मैदान को गैरकानूनी तरीके से किराए पर दिलवाकर पैसे कमाना |
७) ठेकेदारों को गैरकानूनी कामों की अनुमति देकर उनसे पैसे कमाना |

और भी ऐसे बहुत से मामले हैं | कभी विस्तार में लिखूँगा | बस समझ लीजिये कि आमचोर अवस्थी डाकयार्ड कॉलोनी में भारतीय नौसेना के कलंक संजीव काले जी के प्रतिनिधि है | भ्रष्टाचार में कैसे पीछे रह सकते हैं ?