परीक्षा का मजाक : केंद्रीय विद्यालय भांडुप, मुंबई में अपनी परीक्षा की उत्तर पुस्तिका खुद जाँचते हैं विद्यार्थी

kv-pic

उम्मीद है आप सबने मेरा पिछला लेख “केंद्रीय विद्यालय भांडुप, मुंबई का रसायनशास्त्र (chemistry) का प्रश्नपत्र हुआ लीक” पढ़ा होगा | आज उसी केंद्रीय वियालय की एक और लापरवाही की ओर इशारा करते हुए मैं यह लेख लिख रहा हूँ |

केंद्रीय विद्यालय भांडुप पर हिंदी की वो कहावत बखूबी बैठती है – “कहीं का हाथी, कहीं का रोड़ा, भानुमती ने कुनबा जोड़ा |” पूरा विद्यालय राम भरोसे चल रहा है | नियमों की किसी को पड़ी नहीं है | अब बताइये बच्चों की परीक्षा लेने का मतलब क्या है यदि परीक्षा से पहले प्रश्नपत्र ही लीक हो जाए तो ? सिर्फ उतने पर ही बात नहीं रूकती | कई शिक्षक इतने आलसी हैं कि परीक्षा की उत्तर पुस्तिकाएँ स्वयं नहीं जाँचते, उन्हीं बच्चों को दे देते हैं जिनकी परीक्षा ली गई है | इस काम में सबसे आगे हैं केंद्रीय विद्यालय के फिजिक्स और एकाउंटेंसी के शिक्षक | कई विद्यार्थी अपनी उत्तर पुस्तिकाएँ स्वयं जाँचते हैं, जो उत्तर लिखे न हो, चुपचाप लिख देते हैं, और खुद को अच्छे-अच्छे अंक भी दे देते हैं | ऐसा करके कक्षा में लोग प्रथम भी आये हैं | विषयों में सर्वोच्च अंक लानेवाले कई विद्यार्थी ऐसे ही हैं |

परीक्षा यदि ऐसे लेनी है तो बेहतर है परीक्षा ली ही न जाए | प्राध्यापिका श्रीमती प्रमिला पाल को इन सब मामलों की पूरी जानकारी है किंतु वो किसी शिक्षक पर कोई कार्रवाई नहीं करती | केंद्रीय विद्यालय भांडुप में जब भी कुछ गलत होता है, प्रमिला जी उस मामले में पर्दा डालने की पूरी कोशिश करती हैं | इससे पहले भी वो इनसे ज्यादा संगीन मामलों को दबा चुकी है | प्रश्नपत्र लीक होना, उत्तर पुस्तिका की जाँच में लापरवाही यह सब मामले तो वो ऐसे हजम कर जाएँगी कि किसी को पता भी नहीं चलेगा |

अब भ्रष्ट केंद्रीय विद्यालय प्रशासन मामले में कुछ करेगा तो नहीं | ऐसे में आपको और मुझे भी परेशान होने की कोई जरुरत नहीं | बस पढ़िए और आनंद लीजिये | सारी शर्म बेच न खाई हो तो हो सकता है विद्यालय प्रशासन हम लोगों की हँसी देखकर सुधर जाए |

One thought to “परीक्षा का मजाक : केंद्रीय विद्यालय भांडुप, मुंबई में अपनी परीक्षा की उत्तर पुस्तिका खुद जाँचते हैं विद्यार्थी”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *