नौसेना के कमांडर आय एस कुमार तथा कमांडर ललित शर्मा बने दूध चोर, दिन के एक लीटर दूध के लिए अपना ईमान बेचा

दूधचोर कमांडर आय एस कुमार तथा कमांडर ललित शर्मा
दूधचोर कमांडर आय एस कुमार तथा कमांडर ललित शर्मा

मुझे पता है शीर्षक पढ़ के आप लोग बड़ा अजीब महसूस कर रहे होंगे | कुछ लोगों को तो बकवास लग रहा होगा किंतु शांति से पूरा मामला पढ़िए तो आपको अंदाजा लग जाएगा कि पैसे के लिए किस हद तक हमारे नौसेना के अधिकारी गिर सकते हैं | साथ ही साथ यह मामला यह भी साफ़ कर देगा कि मजदूरों को नौसना के अधिकारी किस हिकारत भरी नज़रों से देखते हैं |

मामला है नेवल डाकयार्ड मुंबई के इनकोडिंग डिपार्टमेंट का | इस डिपार्टमेंट में नौसेना के कई अधिकारी, कई सिविलियन सुपरवाइजर-क्लर्क  तथा चौदह मजदूर हैं | नियमों के तहत पूरे नेवल डाकयार्ड, मुंबई के हर मजदूर को हर दिन दूध मिलना चाहिए | और आज तक मिलता भी है सिर्फ इनकोडिंग डिपार्टमेंट के मजदूरों को छोड़कर | लगभग ७-८ महीने पहले तक इनको भी हर दिन पाँच लीटर दूध मिलता था | लेकिन उस पाँच लीटर दूध में से एक लीटर दूध इनकोडिंग डिपार्टमेंट में कार्यरत कमांडर आय एस कुमार तथा कमांडर ललित शर्मा अपने लिए रख लेते थे | लंबे समय से यह चल रहा था | लेकिन ८-१० महीने पहले कुछ मजदूरों ने इसका विरोध किया तो दोनों को दूध मिलना बंद हो गया | दोनों कमांडरों ने तय किया कि इन मजदूरों को इनकी जगह दिखाते हैं |

कप्तान भूपेश अनुजा / Captain Bhupesh Anuja
कप्तान भूपेश अनेजा / Captain Bhupesh Aneja

समय बीता और दूध देनेवाले कांट्रेक्टर का कॉन्ट्रैक्ट ख़त्म हुआ | कॉन्ट्रैक्ट रिन्यु करने का समय आया | कमांडर आय एस कुमार तथा कमांडर ललित शर्मा ने उस समय के अपने बॉस कप्तान भूपेश अनेजा को कहकर कॉन्ट्रैक्ट रिन्यु होने ही नहीं दिया | इनकोडिंग डिपार्टमेंट  के इन चौदह मजदूरों को दूध मिलना बंद | पूरे नेवल डाकयार्ड, मुंबई के हर मजदूर को दूध मिल रहा है, सिवाय इन चौदह मजदूरों के |

अब पाठक ही बताइए ऐसे चिंदी चोर और घटिया दर्जे के इंसानों के विरुद्ध लिख कर मैं गलत करता हूँ क्या ? कई लोग मुझे संदेश भेजते हैं कि नौसेना में सब ऐसे नहीं है | कुछ अधिकारी ही गलत काम करते हैं | तो मेरा उनसे कहना है कि नौसेना प्रशासन उन भ्रष्ट अधिकारीयों की गलती को सुधार तो सकता है न ? उन पर कार्रवाई तो कर ही सकता है न | लेकिन नौसेना प्रशासन तो ऐसे चोरों को बचाने के लिए पूरी ताकत लगा देता है |

उन चौदह मजदूरों ने नौसेना प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारियों को कई प्रार्थना पत्र लिखे किंतु उनके कान पर जू तक नहीं रेंगी | वो करेंगे भी क्या ? वो तो खुद भ्रष्टाचार में गले तक डूबे हैं | रियर एडमिरल संजीव काले के बारे में तो कई बार लिख चुका हूँ , अब वाईस एडमिरल गिरीश लूथरा के कई मामले पता चले हैं | वो भी लिखूँगा |

पाठकों की अतिरिक्त जानकारी के लिए बता दूँ कि कमांडर आय एस कुमार साईकलचोर के नाम से भी कुख्यात हैं | यदि आप उस मामले को जानना चाहते हैं तो इस लिंक पर क्लिक करें : नौसेना का कमांडर आय एस कुमार निकला साइकिल चोर

(  कमांडर आय एस कुमार तथा कमांडर ललित शर्मा के नाम संदेश : आप दोनों इतने बड़े अधिकारी होकर इतनी घटिया हरकत कर रहे हो, शर्म आती है या नहीं ? इतनी कमी पड़ रही है तो ebharat.net के मेल पर अपने घर का पता भेज दीजिये | दोनों को एक-एक लीटर दूध हर दिन मैं अपने खर्चे पर भेज दूँगा | )

( कप्तान भूपेश अनेजा के नाम संदेश : इतनी बड़ी-बड़ी ईमानदारी की बातें करके इतनी घटिया हरकत | बिल्डर के एजेंट ने आपका १५-१७ लाख काला धन हजम कर लिया था, भूल गए क्या ? उससे सबक लो | गरीबों को लूटना बंद करो | और थोड़ी शर्म बाकि हो तो मुंबई से अरब सागर नजदीक है | )

(आजके लिए इतना ही काफी है | बाकी किसी और दिन | नौसेना के भ्रष्टाचार के मामलों की जानकारी के लिए पढ़ते रहिये ebharat.net | मुझसे संपर्क करके अपने विचार जरुर बताएँ | मेरा मेल है : [email protected])

One thought to “नौसेना के कमांडर आय एस कुमार तथा कमांडर ललित शर्मा बने दूध चोर, दिन के एक लीटर दूध के लिए अपना ईमान बेचा”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *